आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए Top 10 Resolutions

साल 2023 खत्म होने वाला है और कुछ ही दिनों में एक और साल शुरू हो रहा है, अब समय आ गया है कि पीछे मुड़कर देखें और अच्छे समय के बारे में याद करें, जो इतना अच्छा नहीं था और जीवन ने जो सबक सिखाया है, उस पर कायम रहें। इस पिछले एक वर्ष में. बेहतर जीवनशैली के वादे के साथ. किसी भी अन्य चीज़ से अधिक अपने स्वास्थ्य की परवाह करना और अपनी मानसिक पवित्रता और भावनात्मक स्वास्थ्य को प्राथमिकता देना, अगले वर्ष में कदम रखना और अपने लिए बेहतर जीवन विकसित करने का प्रयास करना महत्वपूर्ण है। जैसे-जैसे हम एक और वर्ष बड़े होते जाते हैं और एक बेहतर जीवन जीने की कोशिश करते हैं, अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए कुछ संकल्प लेने से अच्छे निर्णयों में तेजी आ सकती है।

यहां हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए कुछ संकल्प दिए गए हैं जिन्हें हमें नए साल की संकल्प सूची में शामिल करना चाहिए:

शारीरिक रूप से अपना ख्याल रखना: स्वस्थ भोजन करने से लेकर यह सुनिश्चित करने तक कि हमारी एक स्वस्थ कसरत दिनचर्या है, अपने शारीरिक स्वास्थ्य की देखभाल करने से हमें बेहतर मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य प्राप्त करने में मदद मिलती है।

आत्म-जागरूकता: जैसे-जैसे हम अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के महत्व के बारे में पढ़ते और सीखते हैं, हम खुद को बेहतर ढंग से समझने की कोशिश करते हैं और जानते हैं कि हमारे लिए क्या काम करता है।

स्क्रीन समय सीमित करें: दुनिया हलचल और स्क्रीन से भरी है; सोशल मीडिया और मोबाइल फोन कभी-कभी भावनाओं को और बढ़ा देते हैं। हमें जब भी संभव हो स्क्रीन से दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए और इस पल का आनंद लेना चाहिए।

स्वयं के प्रति दयालु बनें: हमें कठोर आत्म-आलोचना से बचना चाहिए और इसके बजाय स्वयं को वैसे ही स्वीकार करना सीखना चाहिए जैसे हम हैं और स्वयं के प्रति अधिक दयालु होना चाहिए।

एक शौक रखें: एक शौक यह सुनिश्चित करता है कि हम उस काम को करने में समय का आनंद लें जो हमें सबसे ज्यादा पसंद है। यह हमें उपलब्धि की भावना भी दे सकता है।

ध्यान: माइंडफुलनेस, आत्म-जागरूकता और ध्यान का अभ्यास हमें वर्तमान में अधिक जमीनी और खुश महसूस करने में मदद कर सकता है।

शराब का सेवन सीमित करें: शराब का सेवन, शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अस्वास्थ्यकर होने के अलावा, चिंता और अवसाद को भी बढ़ा सकता है।

नींद को प्राथमिकता दें: जहां भागदौड़ जरूरी है, वहीं आराम करना और शरीर और दिमाग को तरोताजा करना भी उतना ही जरूरी है। प्रतिदिन लगभग सात से आठ घंटे की स्वस्थ नींद हमें बेहतर महसूस करने में मदद करती है।

आभारी होना: कृतज्ञता का अभ्यास करने से हमें जो कुछ भी हमारे पास है उसके प्रति अधिक आभारी होने में मदद मिलती है। इससे आगे खुशी और संतुष्टि की गहरी भावना पैदा होती है।

खुद को चुनौती दें: अधिक आशावादी होने और खुद को चुनौती देने से हमें नए रास्ते तलाशने और अपनी क्षमता को बेहतर ढंग से जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment